19 October, 2018

बीज विक्रय दर में हुई कमी, किसान को राहत

कोरिया । राज्य शासन द्वारा रबी फसलों के विक्रय दर में भारी कमी कर दी गई है। किसान अब मामूली दर पर रबी फसलों के लिए बीज खरीद सकेंगे।
कृषि विभाग के उप संचालक एम.जी.श्याम कुंवर ने बताया कि चालू वर्ष के लिए ऊंची किस्म गेंहू की बीज के लिए विक्रय दर 2800 रूपये निर्धारित की गई है जो गत वर्ष 3200 रूपये निर्धारित थी। इस प्रकार विक्रय दर में 400 रूपये की कमी की गई है। इसी प्रकार बौनी किस्म गेंहूं की बीज के लिए 2500 रूपये निर्धारित की गई है जो गत वर्ष 2600 रूपये निर्धारित थी। इस प्रकार विक्रय दर में 100 रूपये की कमी की गई है। चना (15 वर्ष के अंदर) की बीज के लिए 7100 रूपये निर्धारित की गई है जो गत वर्ष 9000 रूपये निर्धारित थी। इस प्रकार विक्रय दर में 1900 रूपये की कमी की गई है। चना (15 वर्ष के ऊपर) की बीज के लिए 8500 रूपये निर्धारित की गई है जो गत वर्ष 10000 रूपये निर्धारित थी। इस प्रकार विक्रय दर में 1500 रूपये की कमी की गई है। मटर अर्किल की बीज के लिए 6500 रूपये निर्धारित की गई है जो गत वर्ष 12000 रूपये निर्धारित थी। इस प्रकार विक्रय दर में 5500 रूपये की कमी की गई है। मटर समस्त किस्म की बीज के लिए 4100 रूपये निर्धारित की गई है जो गत वर्ष 4400 रूपये निर्धारित थी। इस प्रकार विक्रय दर में 300 रूपये की कमी की गई है। मसूर (15 वर्ष के अंदर) की बीज के लिए 7500 रूपये निर्धारित की गई है जो गत वर्ष 10000 रूपये निर्धारित थी। इस प्रकार विक्रय दर में 2500 रूपये की कमी की गई है। तिवडा समस्त किस्म की बीज के लिए 5400 रूपये निर्धारित की गई है। सरसों (15 वर्ष के अंदर) की बीज के लिए 4000 रूपये निर्धारित की गई है। सरसों (15 वर्ष के ऊपर) की बीज के लिए 5100 रूपये निर्धारित की गई है जो गत वर्ष 5500 रूपये निर्धारित थी। इस प्रकार विक्रय दर में 400 रूपये की कमी की गई है। अलसी समस्त किस्म की बीज के लिए 4600 रूपये निर्धारित की गई है। कुसुम (15 वर्ष के अंदर) की बीज के लिए 2600 रूपये निर्धारित की गई है जो गत वर्ष 3400 रूपये निर्धारित थी। इस प्रकार विक्रय दर में 800 रूपये की कमी की गई है। कुसुम (15 वर्ष के ऊपर) की बीज के लिए 4400 रूपये निर्धारित की गई है और तोरिया समस्त किस्म की बीज के लिए 6500 रूपये निर्धारित की गई है। 

jaydeep@ds.in

Review overview
NO COMMENTS

Sorry, the comment form is closed at this time.