20 January, 2018

मातृ वंदना योजना के लिए शुरू हुई ऑनलाइन फीडिंग

कानपुर । गर्भवती महिलाओं के लिए नगर में मातृ वंदना योजना शुरू की जा रही है। इसके लिए गर्भवती महिलाओं, प्रसूताओं की तलाश हो रही है। इस योजना के लाभ के लिए शर्त यह है कि उनकी पहली प्रेग्नेंसी हो। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी योजना लागू करने के लिए प्रशिक्षण लेकर लौट आए हैं और ऑनलाइन फीडिंग भी शुरू हो गई है।
गर्भवती महिलाओं, नवजात बच्चों को कुपोषण और एनमिया से बचाने के लिए मातृ वंदना योजना योजना शुरू की गई है। अधिकारियों ने अपने स्तर पर होमवर्क शुरू कर दिया है। सीएचसी स्तर पर एक प्रोफार्मा गर्भवती महिलाओं या प्रसूताओं को दिया जा रहा है, जिसे भरकर स्थानीय स्तर पर ही जमा करना होगा। सीएचसी से इसकी ऑनलाइन फीडिंग हो जाएगी।
इस योजना में ऐसी गर्भवती महिलाओं को 5,000 रुपए का आर्थिक लाभ मिलेगा, जिनकी पहली प्रेगनेंसी है और वह भी सरकारी अस्पतालों या एएनएम के रजिस्टर में उनका पंजीकरण हो।
बताते चलें कि गर्भवती महिलाओं, नवजात बच्चों को कुपोषण और एनमिया से बचाने के लिए यह योजना शुरू की गई है। इसका लाभ तीन किस्तों में मिलेगा। वह भी रकम सीधे बैंक खाते में जाएगी। इसके लिए जिला अस्पतालों और सीएचसी स्तर पर भी जागरूकता फैलाने का प्लान तैयार किया गया है।
योजना के तहत गर्भावस्था का पंजीकरण कराने पर 1000 रुपए, छह महीने की गर्भावस्था पूर्ण होने पर जांच के बाद 2000 रुपए तथा शिशु के जन्म के बाद प्रथम टीका चक्र पूर्ण करने पर 2000 रुपए सीधे उनके खाते में ट्रांसफर किया जाएगा।
आंकड़ों के मुताबिक, 60 फीसदी से अधिक गर्भवती महिलाएं कुपोषण या एनीमिया से पीड़ित मिल रही हैं। इसलिए तीन चरणों में भुगतान करने की बात कही गई है। सभी पात्रों को योजना का लाभ मिलेगा, यह सुनिश्चित कराना सीएमओ की जिम्मेदारी होगी। अपर मुख्य चिकित्साधिकारी आरसीएच को जिले में नोडल अधिकारी के रूप में नामित किया गया है।
सीएमओ डा. अशोक कुमार शुक्ला ने बताया कि मातृ वंदना योजना के तहत मिलने वाली सहायता के साथ प्रदेश में संचालित जननी सुरक्षा योजना के अन्तर्गत प्रदान किए जा रहे लाभ व सुविधाएं मिलती रहेंगी। संस्थागत प्रसव पर प्रचलित योजना का लाभ भी प्राप्त होगा। इसके लिए पूरा होमवर्क कर लिया गया है। 

jaydeep@ds.in

Review overview
NO COMMENTS

POST A COMMENT