14 December, 2018

मैय्यत में मेरी तुम सभी चले आना…

​ सुषमा मलिक, रोहतक महिला प्रदेशाध्यक्ष CLA हरियाणा
उठा कर जनाजा कंधो पर अपने

​ सुषमा मलिक, रोहतक महिला प्रदेशाध्यक्ष CLA हरियाणा

भूले से भी ना तुम  आँसू बहाना।

उठा कर जनाजा कंधो पर अपने,
मुझे शमशान तक सभी छोड़ आना।।
होंगे उस वक़्त वो नींद में मगरूर,
भूले से भी ना उसे तुम जगाना।।
मैय्यत में मेरी तुम सभी चले आना।।
:- मुझसे अलग भी दुनिया है उसकी,
   उसे कहो तुम सपनो में खो जाना।
   मुझसे प्यारी तो वो निंदिया उसे है,
   उसकी निंदिया में न विघ्न अड़ाना।
   मैय्यत में मेरी तुम सभी चले आना।।
भोर में जब अधखुली हो आंख उसकी,
     “मलिक” की याद ना उसको दिलाना।
     कहना थी वो बस एक सपने जैसी,
     हँसते खेलते यू ही उसे तुम भुलाना।
     मैय्यत में मेरी तुम सभी चले आना।।
हुई अब चित्ता की अग्नि शांत तो,
   धीरे से तुम उसे ये किस्सा सुनाना।
   विघ्न पड़े ना उस बेवफा की नींद में,
   ना बनाना पड़े अब उसे कोई बहाना।
   उन्मुक्त गगन में अब स्वछंद विचरे वो,
   “सुषमा” ना यू तुम उसे कभी सताना।
   मैय्यत में मेरी तुम सभी चले आना।।

rgautamlko@gmail.com

Review overview
NO COMMENTS

Sorry, the comment form is closed at this time.