22 October, 2018

जस्टिस कर्णन ने दी सीजेआई व 7 जजों को 5 साल की सजा! एससी-एसटी एक्ट के तहत दोषी माना आवास पर बनाई अस्थाई अदालत से जारी किया आदेश सुप्रीम कोर्ट पहले ही दे चुकी है कि कोई भी अदालत न माने आदेश। कोलकाता।

READ MORE

यूपीएसआईडीसी का अध्यक्ष भी बनने के लिए गुणा-भाग में जुटे मुख्यसचिव राहुल भटनागर लखनऊ। अपनी कुर्सी बचाने के लिए साम, दाम, दण्ड और भेद का सहारा लेने वाले शुगर डैडी के रूप में विख्यात यूपी के मुख्य सचिव राहुल भटनागर ने दो पूर्व मुख्य सचिवों को निशाने

READ MORE

चाकू व पेचकस से गोदकर मां व बहन को उतारा मौत के घाट लाश को ठिकाने लगाने जा रहे बेटे को डाला सहित पुलिस ने पकड़ा लाशें जलाने के लिए डाला में रखा 20 लीटर पेट्रोल व चाकू बरामद लखनऊ। प्रापर्टी की लालच में

READ MORE

गांव-गांव से दौड़ेंगी अनुबंधित बसें राजधानी के 17 गांवों में तीन श्रेणी की रूटों पर चलेंगी 44 बसें लखनऊ। उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम प्रबंधतंत्र ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल पर गांव-गांव से बसें चलाने का निर्णय लिया है। लोक कल्याण संकल्प पत्र

READ MORE

लखनऊ। आम खाने के शौकीनों के लिये एक खुशखबरी है। पिछली गर्मी में जिन लोगों ने ‘‘मोदी आम’ का स्वाद लिया था, वह अब इस गर्मी में ‘‘योगी आम’ का स्वाद ले सकेंगे। ऐसा इसलिए होगा क्योंकि लखनऊ के मलिहाबाद के आम उत्पादक हाजी कलीमुल्ला

READ MORE

अखिलेश को सत्ता देना सबसे बड़ी भूल कांग्रेस ने हमें बर्बाद करने में कसर नहीं छोड़ी रामगोपाल शकुनि से भी खराब काम कर रहे शिवपाल को समझाएंगे अलग मोर्चा न बनायें लखनऊ। समाजवादी पार्टी में चल रही रार को आज पार्टी के संरक्षक मुलायम

READ MORE

जबसे कारपोरेट घरानों का पत्रकारिता में प्रवेश हुआ है। तबसे पत्रकारिता की धार कुंद हो गई है। कारपोरेट घरानों की आवारा पूंजी ने पत्रकारिता का चीर हरण कर दिया है। पहले पत्रकारिता में प्रवेश दिग्गज पत्रकारों की देख-रेख में मिलता था। मुख्यधारा में तभी आने

READ MORE

शिशुपाल सिंह लखनऊ। राजनीति में जब भी सियासी युद्घ होता है तो राजनेता अपने विरोधियों पर निशाना साधने के लिए खूब सियासी बाण छोड़ते हैं। जमकर चर्चित नामों और कहावतों का प्रयोग किया जाता है। समाजवादी पार्टी के कुनबे के सियासी युद्घ में चाचा-भतीजे के

READ MORE

राजेन्द्र के. गौतम लखनऊ। उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग अलग-अलग न होने से जहां किसानों को औद्यानिक विकास और खाद्य प्रसंस्करण योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है वहीं प्रावधानित बजट के खर्च में फेल होने के कारण हर साल लगभग 50 फीसदी सरकार

READ MORE

राजेन्द्र के. गौतम लखनऊ। कहावत है कि कमाऊ पूत को हर जगह वरीयता मिलती है। भले ही उसके कारनामें कितने ही काले क्यों न हों। नवीन ओखला औद्योगिक विकास प्राधिकरण एक ऐसे नटवर लाल बाबू का मामला प्रकाश में आया है, जिसके काले कारनामें कुख्यात

READ MORE