14 December, 2018

आंबेडकर और कांशीराम की जीवनी से चुनावी नैय्या पार करने की फिराक में बसपा

BSP , electoral battle, Ambedkar, Kanshiram, biography

लखनऊ। छत्तीसगढ़ में कांग्रेस से गठबंधन की अटकलों के बीच बसपा सभी 90 सीटों पर अपना आधार तैयार करने में जी जान से जुट गई है। बसपा नेताओं का कहना है कि अगर गठबंधन हुआ तो ठीक, नहीं तो हम सभी सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने को तैयार हैं।  गांव-गांव में बूथ स्तर पर पहुंचकर बसपा के नेता संविधान निर्माता डॉ. भीमराव आंबेडकर और बसपा के संस्थापक कांशीराम की जीवनी सुना रहे हैं। गांवों में हो रही सभाओं में केंद्र और राज्य में सत्ता पर काबिज भाजपा सरकार की नाकामियां भी गिनाईं जा रही हैं।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने छत्तीसगढ़ के नेताओं से कह दिया है कि वे अपनी तैयारी पूरी रखें। इसके बाद से बसपा नेता बूथ स्तर पर संगठन खड़ा करने की कोशिश में लगे हैं। हर गांव में कार्यकर्ता तलाशे जा रहे हैं। प्रमुख नेताओं और कार्यकर्ताओं को एक दिन में तीन पोलिंग बूथों पर टीम तैयार करने को कहा गया है। पार्टी छत्तीसगढ़ में हर चुनाव में एक या दो सीट जीतती रही है। नेताओं को लगता है कि अगर कुछ सीटों पर फोकस करके ताकत लगाई जाए तो सीटों की संख्या बढ़ाई भी जा सकती है।

बसपा का जनाधार अनुसूचित जाति बहुल सीटों पर है। पार्टी नेताओं को पता है कि अगर सत्ता में भागीदारी चाहिए तो सिर्फ एक वर्ग के समर्थन से कुछ नहीं होगा। छत्तीसगढ़ में राजनीति की दशा और दिशा अन्य पिछड़ा वर्ग के वोटर तय करते हैं। बसपा ने अन्य पिछड़ा वर्ग के वोटरों को साधने की तैयारी की है।

rgautamlko@gmail.com

Review overview
NO COMMENTS

Sorry, the comment form is closed at this time.