17 December, 2018

मथुरा में सत्याग्रह की आड़ में कानून हाथ में लिया गया। सत्याग्रहियों ने हिंसा का रास्ता अपनाया और बेगुनाह पुलिस अफसरों को पीटकर और गोलियों से भून डाला। क्या कसूर था उन पुलिस अफसरों का, क्यों की गयी उनकी हत्या ? रामवृक्ष के बेतुकी और

READ MORE

अलीगढ़। देश भर मे भले ही मोदी लहर मानी जा रही हो लेकिन सूबे के अलीगढ़ जिले मे स्थिति अलग है। अलीगढ़ मे पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह का खासा दबदबा रहा है । विधानसभा चुनावों में कल्याण सिंह परिवार को भारी समर्थन मिलता रहा है

READ MORE

लखनऊ। मथुरा के जवाहरबाग की घटना ने प्रदेश की अखिलेश यादव सरकार को हिला दिया है। इस घटना से सपा सरकार के कानून व्यवस्था की फिर से कलई खोल दी है। सत्ता वापसी में लगे सीएम अखिलेश यादव को तगड़ा झटका लग गया है। बसपा

READ MORE

लखनऊ। मथुरा के जवाहर बाग की घटना पर कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव ने कहा कि अधिकारियों की चूक से इतनी बड़ी घटना हुई है। पुलिस और प्रशासन के अधिकारी बगैर तैयारी के मौके पर गए थे। मथुरा की घटना बहुत ही दुखद है। भाजपा के

READ MORE

लखनऊ। भ्रष्टाचार की लखीमपुर के विधायक की शिकायत पर एलडीए बाबू काशीनाथ राम की जांच एलडीए ने शुरू कर दी थी। 17 मई को दिए गए जांच के आदेश के बाद भी दो जून तक जांच अधिकारी के पास फाइलें नहीं पहुंची है। ऐसे में

READ MORE

लखनऊ। यूपी की नौकरशाही के सबसे बड़े पद पर मुख्य सचिव के लिए आईएएस अफसरों में रेस शुरू हो गई है। इस रेस में कृषि उत्पादन आयुक्त प्रवीर कुमार, राजस्व परिषद में तैनात वरिष्ठï आईएएस अनिल कुमार गुप्ता, सिंचाई विभाग में तैनात दीपक सिंघल और

READ MORE

लखनऊ। भ्रष्टाचार के आरोपी दो आईएएस अफसरों पर प्रमुख सचिव नियुक्ति मेहरबान हैं। जांच में स्पष्टï दोषी पाए जाने के बावजूद महीनों से फाइल को दबाए बैठे हुए हैं। इससे प्रमुख सचिव नियुक्ति किशन सिंह अटोरिया की कार्यप्रणाली सवालों के घेरे में है। सूबे के

READ MORE

लखनऊ। मौकापरस्त कार्य शैली के कारण जनता और राजनीतिक दलों के लिए अछूत बन गए हैं राष्टï्रीय लोकदल के अध्यक्ष अजित सिंह। सियासी अस्तित्व बचाने के लिए रालोद मुखिया हर दल का दरवाजा खटखटा रहे हैं, लेकिन पिछले खराब रिकार्ड के कारण हर दल ने

READ MORE

अखबारों से खत्म हुई नैतिक पत्रकारिता मेरा मानना है कि आजादी के पहले तक पत्रकारिता मिशन थी, अब धंधा बन गई है। अब पत्रकारिता का मूल उददेश्य ही बदल गया है। पहले अखबार में समाज और देश के प्रति जिम्मेदारी की भावना थी। समाज में बहुत

READ MORE