25 March, 2019

सपा-बसपा के गठबंधन से अकेले चुनावी मैदान मेें कूदेगी कांग्रेस

कृष्ण कुमार द्घिवेदी

लखनऊ। आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा को मात देने के लिए सपा-बसपा और कांग्रेस ने फार्मूला तैयार कर लिया है। इसके तहत सपा-बसपा का गठबंधन होगा और कांग्रेस अकेले मैदान में कूदेगी। राष्टï्रीय लोकदल भी सपा-बसपा गठबंधन का हिस्सा बनेगा। इस फार्मूले के तहत अब सपा-बसपा फिफ्टी-फिफ्टी सीटों पर प्रत्याशी उतारेंगे।

बसपा सूत्रों का कहना है कि बसपा सुप्रीमो मायावती के घर बैठक हुई थी, जिसमें सपा के राष्टï्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव, रामगोपाल यादव व अन्य बड़े नेता मौजूद थे। सूत्रों के मुताबिक देर रात चली बैठक में यह तय हुआ कि यूपी की लोकसभा की 80 सीटों में से 40 सीटों पर बसपा और 34 सीटों पर सपा व 4 पर रालोद चुनाव लड़ेंगे। चार सीटें चौधरी अजित सिंह की पार्टी आरएलडी को दिए जाने पर सहमति बन गई है। बाकी बची 2 सीट पर कांग्रेस के खिलाफ यह मोर्चा अपने उम्मीदवार नहीं उतारेगा। यह सीटें अमेठी व रायबरेली हैं, जिनकी नुमाइंदगी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी व संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी करती हैं।  मायावती के घर हुई बैठक में सीटों के बंटवारे का फार्मूला तय हो चुका है। इसकी औपचारिक घोषणा मकर सक्रांति के दिन या उसके बाद की जा सकती है। अखिलेश यादव ने बड़ा दिल दिखाते हुए बड़ी पहल की और उन्होंने यहां तक पेशकश कर दी कि बसपा चाहे जितनी सीटों पर चुनाव लड़ले, लेकिन गठबंधन हर हाल में होना चाहिए। इस पर बैठक में यह तय हुआ कि सपा और बसपा 50-50 के फार्मूले के तहत ही चुनाव लड़ेंगी। इस फार्मूले के तहत कांग्रेस यूपी में अपने बल पर चुनाव मैदान में उतरने की तैयारियों में जुटी है। शक्ति प्रोजेक्ट के बाद केंद्रीय नेतृत्व के इशारे पर सभी जिलाध्यक्षों से बूथ स्तर तक के पदाधिकारियों का पूरा ब्योरा मांगा गया है। यह ब्योरा हर हाल में 10 जनवरी तक जिला और नगर

अध्यक्षों को प्रदेश नेतृत्व की वेबसाइट पर अपलोड करना है।  केंद्रीय नेतृत्व के इशारे पर प्रदेश के संगठन प्रभारी सतीश अजमानी से यूपी के सभी जिला और नगर अध्यक्षों से उनकी कार्यकारिणी के पदाधिकारियों के साथ ब्लॉक और वॉर्ड स्तर की कमिटी और बूथ स्तर तक की कमिटी की जानकारी मांगी है। जिला और नगर अध्यक्षों को भेजे गए पत्र के साथ तीन प्रोफार्मा भी भेजे गए हैं। इनमें एक प्रोफार्मा जिला व नगर कार्यकारिणी का, दूसरा वॉर्ड या ब्लॉक कमेटी का और तीसरा बूथ स्तर की कमिटी का है। तीनों प्रोफार्मा में कमेटी के पदाधिकारियों के पद सहित नाम और मोबाइल नंबर भर कर उन्हें 10 जनवरी तक पीसीसी को ईमेल  पर भेजना है।

कांग्रेस नेतृत्व इससे पहले जिला नगर अध्यक्षों के जरिए हर बूथ पर सक्रिय 10 कांग्रेस कार्यकर्ताओं की जानकारी जुटा रहा है। पिछले महीने अध्यक्षों को टास्क दिया गया था कि बूथ स्तर के कम से कम 10 पदाधिकारियों की जानकारी उनकी वोटर आईडी नंबर सहित पीसीसी को मुहैया करवाई जाए। पार्टी नेताओं की मानें तो 15 जनवरी तक यह ब्योरा भी पीसीसी के पास इक_ा हो जाएगा। वोटर आईडी नंबर और मोबाइल फोन के जरिए कांग्रेस का केंद्र्रीय नेतृत्व सीधे बूथ स्तर के कार्यकर्ता के संपर्क में होगा। प्रदेश कांग्रेस महासचिव और लखनऊ प्रभारी विनोद मिश्रा के मुताबिक अगले महीने से राहुल गांधी की यूपी में लगातार रैलियां होने जा रही हैं।

 

 

rgautamlko@gmail.com

Review overview
NO COMMENTS

Sorry, the comment form is closed at this time.