22 February, 2018

दिलीप का मुख्य हत्यारा विजय शंकर सिंह गिरफ्तार

एम.एम.सरोज

लखनऊ। यूपी के इलाहाबाद में मामूली विवाद में एलएलबी के छात्र दिलीप सरोज की पीट पीटकर हत्या किए जाने के मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। एडीजी एसएन सबत ने बताया कि हत्या के मुख्य आरोपी विजय शंकर सिंह को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इससे पहले भी एक आरोपी को गिरफ्तार किया जा चुका है। पुलिस ने बताया कि एलएलबी के छात्र की हत्या में शामिल एक अन्य आरोपी ज्ञानप्रकाश अवस्थी को सोमवार को गिरफ्तार कर लिया गया था। पुलिस ने एक फॉच्र्यूनर कार भी जब्त की है पुलिस का कहना है कि घटना वाले दिन आरोपी इसी कार में सवार होकर आए थे कर्नलगंज के कटरा बाजार के कालिका रेस्टोरेंट में मामूली कहासुनी हो गई थी।
इसके बाद दबंगों ने 9 फ रवरी की रात लोहे की रॉड और इंटो से पीटकर 26 वर्षीय छात्र दिलीप सरोज की दर्दनाक हत्या कर दी। इलाहबाद डिग्री कॉलेज से कानून की पढ़ाई कर रहा दिलीप यूनिवर्सिटी रोड के पास अपने दोस्तो के साथ कालिका रेस्टोरेंट में खाना खाने आया हुआ था। रोस्टोरेंट में दिलीप का पैर इन बदमाशो से हल्का सा टकरा गया इसी बात को लेकर दोनों में कहासुनी होने लगी उसके बाद इन लोगों ने उसे रेस्टोरेंट में जमकर कुर्सीयों से पीटा और दिलीप को रेस्टोरेंट से घसीटते हुए सीढिय़ों से घसीट कर बुरी तरह लोहे की रॉड और इंटो से पीटने लगे पिटाई के बाद दिलीप सरोज की मौके पर ही मौत हो गई।

इंसानियत हुई शर्मसार

बदमाशों ने दिलीप सरोज को रेस्टोरेंट की सीढिय़ों से घसीट कर सड़क पर ले आये और बेहोशी की हालत में भी उसके सिर और पैरों पर रॉड और पत्थरों से मारते रहे रेस्टोरेंट में लगे सीसीटीवी कैमरे में यह पूरी घटना कैद हो गई। और यह वीडीयो सोशल मीडिया में जैसे ही वायरल हुआ शासन-प्रशान में हड़कम्प मच गया जिसने में भी यह वीडियो देखा उसने इस घटना को इंसानियत हुई शर्मसार को शर्मसार बताया और आरोपियों को फांसी देने की मांग की। वहीं इस वीडियो के आधार पर पुलिस ने अब तक दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। डाक्टरों के मुताबिक दिलीप सरोज के सिर में गहरी चोट लगी थी जिससे उसकी मौत हो गई थी।

फूटेज के आधार पर हुई पहचान

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश कुलहरि ने कहा कि दिलीप सरोज के भाई की तहरीर पर तीन अज्ञात लोगों के खिलाफ एफ आईआर दर्ज की गई थी सीसीटीवी फु टेज और इस घटना के वायरल हुए वीडियो के आधार पर मुख्य अभियुक्त के तौर पर विजय शंकर सिंह की पहचान की गई है जो रेलवे में टीटीई के पद पर कार्यरत है वह फ रार चल रहा था। उन्होंने बताया कि कालका होटल के मालिक अमित उपाध्याय को भी गिरफ्तार किया गया है वह विजय शंकर सिंह को पहले से जानता था और घटना के समय वहीं मौजूद था लेकिन इस घटना की सूचना उसने पुलिस को नहीं दी यह वारदात पुलिस तंत्र पर भी सवाल खड़े करती है भरे बाजार पुलिस का ना होना लापरवाही दर्शाता है।

एफआईआर में पुलिस ने की लापरवाही

गरीब परिवार से तालुक रखने वाले दिलीप सरोज के पिता रामलाल सरोज अपना सब कुछ बेच बांचकर अपने होनहार बेटे दिलीप सरोज को कानून की पढ़ाई इलाहाबाद में करवा रहे थे वहीं पुलिस के करीबी दंबगों ने सरेआम छोटी सी बात पर दिलीप सरोज की ईंट और लोहे की रॉड से कूच-कूचकर हत्या कर दी और हमारी नापुंसक पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार नहीं करती है। वहीं जब मुख्यमंत्री और डीजीपी के सख्त आदेश पर इलाहाबाद की पुलिस के कान में जूं रेंगता है। तब जाकर आरोपियो की गिरफ्तारी की जाती है। धन्य है हमारी पुलिस एक गरीब परिवार के बेटे की दर्दनाक हत्या कर दी जाती है और हमारी पुलिस मूकदर्शक बनी रहती है। और तो और हत्या की एफआईआर किसी और तारीख में दर्ज करती है और दस्खत और तारीख कुछ और ही डाली जाती है। एफआईआर दर्ज के समय दंबगों पर एसीएसटी की धारा नहीं लगाई जाती है। जब कालेज के छात्र हंगामा करते है तो हमारी लकवा मार गई पुलिस एसीएसटी की धारा बढ़ाती है।

grish1985@gmail.com

Review overview
NO COMMENTS

POST A COMMENT