25 March, 2019

विधान परिषद की 13 सीटों पर निर्विरोध निर्वाचन तय

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधान परिषद में 13 सीटों के लिये 13 उम्मीदवारों के ही नामांकन होने की वजह से इस चुनाव में अब निर्विरोध निर्वाचन तय है। नामांकन के अंतिम दिन आज 12 उम्मीदवारों ने पर्चे दाखिल किये जबकि एक उम्मीदवार ने 11 अप्रैल को नामांकन पत्र भरा था। पांच मई को 12 सदस्यों का कार्यकाल समाप्त हो रहा है। एक सीट अम्बिका चौधरी के इस्तीफे से रिक्त चल रही थी। श्री चौधरी समाजवादी पार्टी (सपा) से विधान परिषद के सदस्य थे। उन्होंने विधान सभा चुनाव के ऐन मौके पर बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की सदस्यता ग्रहण कर विधान परिषद से इस्तीफा दे दिया था।

 

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव का भी कार्यकाल पांच मई को ही समाप्त हो रहा है, लेकिन उन्होंने विधान परिषद में नहीं जाने का निर्णय लिया। वह 2019 के लोकसभा चुनाव में कन्नौज सीट से लड़ने की घोषणा कर चुके हैं। रिक्त 13 सीटों के लिये 13 उम्मीदवारों के ही नामाकंन होने की वजह से 19 अप्रैल को निर्विरोध निर्वाचन की औपचारिक घोषणा हो जायेगी। 19 अप्रैल को नाम वापसी का अंतिम दिन है। इससे पहले कल नामांकन पत्रों की जांच की जायेगी। 

 

नामाकंन दाखिल करने वालों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के डा़ महेन्द्र सिंह, विजय बहादुर पाठक, अशोक कटारिया, डा़ सरोजिनी अग्रवाल, बुक्कल नवाब, मोहसिन रजा, जयवीर सिंह, यशवंत सिंह, अशोक धवन और विद्यासागर सोनकर शामिल हैं, जबकि भाजपा के समर्थन से अपना दल (अनुप्रिया पटेल गुट) के आशीष पटेल ने भी नामांकन पत्र दाखिल किया है। श्री पटेल केन्द्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल के पति हैं।

 

सपा उम्मीदवार के रुप में नरेश उत्तम ने पर्चा दाखिल किया है, जबकि बसपा उम्मीदवार भीमराव अम्बेडकर ने 11 अप्रैल को ही पर्चा दाखिल कर दिया था। इस चुनाव में विधानसभा सदस्य मतदाता होते हैं। भाजपा की अगुवाई वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबन्धन (राजग) के 324 विधायक हैं। विधायकों की संख्या के अनुसार राजग 11 उम्मीदवारों को जिताने में सफल होगा। उसके पांच वोट भी बचेगे।

 

सपा के 47 विधायक हैं, हालांकि इसमें से एक नितिन अग्रवाल पार्टी छोड़ चुके हैं। सपा अपने बल पर एक उम्मीदवार को जिताने में कामयाब रहेगी। उसके 17 वोट बचेंगे। बसपा के 19 विधायक हैं, हालांकि एक विधायक अनिल सिंह राज्यसभा के चुनाव में क्रास वोटिंग कर भाजपा उम्मीदवार को वोट दे दिया था। बसपा अनिल सिंह को निलम्बित कर चुकी है। बसपा उम्मीदवार सपा और कांग्रेस के कुल सात विधायकों के सहयोग से अपने उम्मीदवार को जिताने में सफल रहेगी।

 

पांच मई को सपा के अखिलेश यादव, उमर अली खां, नरेश उत्तम, डा़ मधु गुप्ता, राजेन्द्र चौधरी, राम सकल गुर्जर और डा़ विजय यादव का कार्यकाल समाप्त हो रहा है। बसपा के डा़ विजय प्रताप और सुनील कुमार चित्तौड़ का भी उच्च सदन में पांच मई अंतिम दिन होगा। भाजपा के डा़ महेन्द्र सिंह और मोहसिन रजा का कार्यकाल भी पांच मई तक है। राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के चौधरी मुश्ताक अहमद का कार्यकाल भी पांच मई तक है। इनमें से भाजपा ने डा़ महेन्द्र सिंह और मोहसिन रजा तथा सपा ने नरेश उत्तम को फिर से उम्मीदवार बना दिया है।

rgautamlko@gmail.com

Review overview
NO COMMENTS

Sorry, the comment form is closed at this time.