गाँधी परिवार का जादू ख़त्म, चुनाव राष्ट्रवाद पर

0
1

उत्तराखंड में करीब चार दर्जन जनसभाओं को संबोधित करने के बाद लोक सभा चुनाव में आपको किस तरह के नतीजों की उम्मीद है? नतीजे बहुत अच्छे और भाजपा के पक्ष में होंगे। प्रधानमंत्री के पांच साल के अभूतपूर्व कार्यकाल व उनके देशहित में कड़े फैसलों से जनता में उत्साह है। यह पार्टी कार्यकर्ताओं में उत्साह का संचार कर रहा है। इन सबको देखते हुए लगता है कि पार्टी इस बार 2014 से ज्यादा मत प्रतिशत के साथ जीत हासिल करेगी।उत्तराखंड सरकार के कौन से अहम फैसले हैं, जिससे आपको लगता है कि जनता आपके पक्ष में वोट देगी? आम जनता ने 2017 में भाजपा को भ्रष्टाचार मिटाने व पारदर्शितापूर्ण सुशासन के लिए मत दिया था। राज्य सरकार ने भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई। समाज कल्याण के छात्रवृत्ति घपले, एनएच-74 भूमि मुआवजा घोटाले जैसे भ्रष्टाचार पर कड़ी कार्रवाई की। इन सबसे जनता में भरोसा जगा है।

डबल इंजन की सरकार में विकास के कामों ने गति पकड़ी है। रोजगार सृजन को लेकर 17 साल में चार हजार करोड़ के निवेश के बरक्स इनवेस्टर्स सम्मिट के जरिए सवा लाख करोड़ निवेश के लिए एमओयू हुए हैं। जहां पहले पहाड़ में निवेश नगण्य होता था, वहीं केवल पहाड़ के लिए चालीस हजार करोड़ के निवेश के एमओयू हुए हैं। पिरूल ऊर्जा नीति, पर्यटन क्षेत्र में होम स्टे योजना, कृषि और सहकारिता की नीतियों से रोजगार सृजन में मदद मिलेगी। उच्च शिक्षा में करीब साढ़े आठ सौ शिक्षकों व स्वास्य सेवाओं के लिए एक हजार से ज्यादा डॉक्टरों की भर्तियां की गई हैं। कन्याओं के लिए नंदा गौराधन योजना की धनराशि 51 हजार से 62 हजार की गई है। आंगनबाड़ी में बच्चों को दो दिन दूध देने की व्यवस्था की गई है। इसी तरह के जन कल्याण के सैकड़ों कार्य हैं।ऐसा मिथक है कि प्रदेश में जिसकी सरकार होती है, उसे अब तक लोकसभा चुनावों में आशातीत सफलता नहीं मिलती? मिथक टूटेगा। प्रदेश में किसी भी मुख्यमंत्री के मुख्यमंत्री आवास को लेकर भी मिथक था । सत्ता चले जाने के डर से तब के मुख्यमंत्री यहां नहीं रहते थे, लेकिन यह मिथक टूट गया है। हम कर्म पर भरोसा रखते हैं।क्या आपको कांग्रेस से किसी किस्म की चुनौती दिखती है? कांग्रेस कोई चुनौती नहीं है। उनके सभी कार्यक्रम फेल हुए हैं। सामने हार देखकर कांग्रेस की झुंझलाहट साफ दिख रही है। इसीलिए राहुल गांधी ने आडवाणी जी को लेकर अनर्गल टिप्पणी की। गुरु भी कोई चीज होती है कहकर, गुरु को वस्तु बना दिया। उनके बयानों से उनकी हताशा और निराशा झलक रही है। गांधी परिवार का करिश्मा फेल हो गया है।क्या लोकसभा चुनाव को आप केंद्र के साथ-साथ राज्य सरकार के प्रदर्शन पर जनमत संग्रह समझते हैं? जब देश में केंद्र व राज्य दोनों में एक ही दल की सरकारें हों, तो मतदान करते वक्त जनता दोनों ही सरकारों के कामकाज को देखती है और अपना फैसला करती है।कहा जा रहा है कि यह मुद्दाविहीन चुनाव है और केवल राष्ट्रीय सुरक्षा व सेना के शौर्य के नाम पर लड़ा जा रहा है? मैं इस बात से असहमत हूं। राष्ट्रीय चुनाव में जो मुद्दे होने चाहिए, उन्हीं मुद्दों पर चुनाव हो रहा है। क्या चुनाव में ये मुद्दे नहीं होने चाहिए कि सरकार ने गरीबों के लिए क्या किया? देश के नागरिकों की सुरक्षा और देश की मजबूती के लिए क्या किया? महंगाई पर नियंतण्रहुआ या नहीं? भारत ने विश्व पटल पर पहचान बनाई या नहीं? हम देश के लिए मतदान कर रहे हैं।कांग्रेस भाजपा पर सेना के राजनीतिकरण का आरोप लगा रही है? कांग्रेस खुद सेना का अपमान कर रही है। एयर स्ट्राइक हुई, तो पहले बधाई दी और फिर सुबूत मांगने लगे। कांग्रेस की इस तरह की बयानबाजी से जनता में गुस्सा है। इस पर चंद लोगों की प्रतिक्रिया क्या है यह मायने नहीं रखती, बल्कि समाज इसको किस रूप में देख रहा है यह ज्यादा महत्वपूर्ण है। कांग्रेस ने पहले चायवाले को लेकर अभद्र टिप्पणियां की और अब चौकीदार को लेकर भी वह जो कह रहे हैं, इससे देश के बड़े वर्ग में रोष है।भाजपा पर सैन्य कार्रवाई का श्रेय लेने का आरोप भी है? भाजपा ने कभी नहीं कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक हमने की। इस साहसिक कार्रवाई के लिए सेना को बधाई, लेकिन यह भी सच है कि सैन्य कार्रवाई के लिए फैसले राजनीतिक नेतृत्व ही लेता है। ऐसे निर्णय राजनीतिक नेतृत्व के साहस पर निर्भर करते हैं। हमारी सेनाओं के पास ताकत पहले भी थी, लेकिन सेना को कार्रवाई की अनुमति नहीं दी गई। इस बात को स्वयं सेना के अफसर बोल रहे हैं। एंटी सेटेलाइट मिसाइल के लिए वैज्ञानिकों ने 2012 में अनुमति मांगी थी, लेकिन तब सरकार ने नहीं दी। अब प्रधानमंत्री ने इसकी अनुमति दी, तो देश को अपनी क्षमता साबित करने का अवसर मिला।कांग्रेस ने अपने आरोप पत्र में प्रदेश का विकास ठप होने के आरोप लगाए हैं? दरअसल, कांग्रेस को विकास में भ्रष्टाचार को देखने की आदत पड़ गई है। एनएच-74 घोटाला, छात्रवृत्ति घोटाला, खाद्यान्न घोटाला और भी कई घोटाले सामने हैं। अब हमारे समय में किसी भी योजना में घोटाला नहीं हो रहा है, तो कांग्रेस को विकास ही नहीं दिख रहा है। हम भ्रष्टाचार में जीरो टॉलरेंस की नीति पर काम कर रहे हैं। खनन से राज्य को होने वाली आय में 28 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। आल वेदर रोड, कर्णप्रयाग रेललाइन, दिल्ली सहारनपुर एक्सप्रेस वे पर युद्ध स्तर पर काम चल रहा है। इसके अलावा राज्य सरकार ने प्रदेश के विकास के लिए नई नीतियां बनाई हैं। कांग्रेस को भ्रष्टाचारमुक्त विकास कभी नहीं दिखेगा।रोजगार की दिशा में क्या काम हो रहा है? कृषि, सहकारिता व उद्यानिकी के क्षेत्र में बड़े स्तर पर रोजगारपरक काम हो रहा है। रोजगार के प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से 3.3 लाख अवसर तलाशे गए हैं। औद्योगिक समिट के बाद बड़ी संख्या में निवेश के प्रस्ताव आए हैं। 4 हजार करोड़ के प्रस्ताव पर्वतीय क्षेत्र के लिए आए हैं। इनसे बड़े पैमाने पर रोजगार मिलेगा।राहुल गांधी ने न्यूनतम आय गारंटी की घोषणा की है। इससे भाजपा को दिक्कत तो नहीं हुई? राहुल गांधी मेंटली डिस्टर्ब हो गए हैं। किसानों के कर्ज माफी का वादा किया था, सब हवाई साबित हो गया है। इसलिए उनसे जनता का विास उठ गया है। बौखलाहट में वे 72 हजार सालाना देने जैसी ऊलजुलूूल घोषणाएं कर रहे हैं।आप अपनी सरकार के किस फैसले को टर्निग प्वाइंट मानते हैं? अटल आयुष्मान योजना सबसे बड़ा गेमचेंजर साबित होगी। लोगों को इलाज के लिए अपनी संपत्ति बेचनी या कर्ज लेना पड़ता था। मेरे मन में था कि इसके लिए क्या हो सकता है। सरकार ने पांच लाख तक का मुफ्त इलाज की व्यवस्था करके लोगों की सबसे बड़ी चिंता दूर की है। इसमें जो व्यावहारिक दिक्कतें आ रही हैं, आचार संहिता के बाद उन्हें दूर किया जाएगा। लोगों की जान बचे, इसके लिए एयर एम्बुलेंस शुरू की है। लोग इससे खुश दिख रहे हैं, तो मुझे भी खुशी होती है। हम पहाड़ में मेडिकल सुविधाएं बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं।विधानसभा चुनाव व नगर निकाय चुनाव में कई बागियों को दोबारा भाजपा में शामिल किया गया। इससे कई मौजूदा विधायकों व नेताओं में रोष है, वे बयानबाजी तक कर रहे हैं कि उनसे पूछा तक नहीं गया। क्या इसका पार्टी के भविष्य पर कोई प्रभाव पड़ेगा? कुछ लोग आए हैं, उसमें से ज्यादातर विधानसभा चुनाव के वक्त के हैं। गुण-दोष के आधार पर लोगों को लिया गया है। एक आध जगह ही ऐसा हुआ होगा। अधिकतर लोगों से बातचीत करने व विास में लेने के बाद ही लोगों को वापस लाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here