11 December, 2018

महिला हॉकी टीम 20 साल बाद फाइनल में

Indian Women Hockey Team, 20 years, 18th Asian Games

जकार्ता। भारतीय महिला हॉकी टीम ने बेहद संघर्षपूर्ण सेमीफाइनल में बुधवार को चीन को 1-0 से पराजित कर 20 साल के लंबे अंतराल के बाद 18वें एशियाई खेलों के फाइनल में प्रवेश कर लिया। भारतीय टीम अब 20 साल के अंतराल के बाद स्वर्ण पदक जीतने और 2020 के टोक्यो ओलंपिक का टिकट हासिल करने से एक कदम दूर रह गयी है। भारत ने आखिरी बार 1982 के नयी दिल्ली एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता था।

भारत का स्वर्ण पदक के लिए शुक्रवार को जापान के साथ मुकाबला होगा जिसने अन्य सेमीफाइनल में गत चैंपियन कोरिया को 2-0 से पराजित किया। भारतीय टीम के लिए मैच का एकमात्र महत्वपूर्ण गोल गुरजीत कौर ने 52वें मिनट में पेनल्टी काॅर्नर पर किया। चीन ने पिछले एशियाई खेलों में रजत और भारत ने कांस्य पदक जीता था। भारत ने आखिरी बार एशियाई खेलों का फाइनल 1998 के बैंकॉक खेलों में खेला था तब भारतीय टीम कोरिया से पराजित हुयी थी। इस हार के साथ तीन बार की पूर्व चैंपियन चीन का लगातार दूसरी बार फाइनल में पहुंचने का सपना टूट गया। सेमीफाइनल काफी संघर्षपूर्ण रहा और पहले तीन क्वार्टर में कोई भी टीम गोल नहीं कर पायी। भारत ने चौथे क्वार्टर के 52वें मिनट में इस गतिरोध को तोड़ा और यह गोल अंतत: मैच विजयी साबित हुआ। भारत को इस मिनट में लगातार तीन पेनल्टी काॅर्नर हासिल हुए। पांचवां और छठा पेनल्टी काॅर्नर बेकार गया लेकिन सातवें पेनल्टी काॅर्नर पर गुरजीत ने जो शॉट लिया वह गोल के ऊपरी हिस्से में समा गया।
भारत का गोल होते ही चीनी खिलाड़ियों ने विरोध दर्ज कराते हुए रेफरल मांग लिया लेकिन टीवी अंपायर ने रिप्ले देखने के बाद गोल को बरकरार रखा। भारत ने शेष आठ मिनट में अपनी बढ़त काे कायम रखते हुए फाइनल में जगह बना ली। आखिरी सीटी बजते ही भारतीय खिलाड़ी खुशी से उछल पड़ीं। पेनल्टी कॉर्नर पर जैसे ही भारत का गोल हुआ, कोच शुअर्ड मरिने ने खिलाड़ियों को गले लगाकर अपनी खुशी का इज़हार किया। वह जानते थे कि यह गोल कितना महत्वपूर्ण है। स्वर्ण और ओलंपिक टिकट से एक कदम दूर खड़ी भारतीय टीम को फाइनल से एक दिन पहले अपनी कुछ कमजोरियों पर चिंतन कर लेना होगा। भारत ने सात पेनल्टी कार्नर में सिर्फ एक को भुनाया और गोल करने के चार शानदार मौके भी गंवाए। जापान ने जिस तरह दूसरे सेमीफाइनल कोरिया को 2-0 से हराया है वह भारतीय टीम के लिए चिंता की बात हो सकती है।

rgautamlko@gmail.com

Review overview
NO COMMENTS

Sorry, the comment form is closed at this time.