18 July, 2018

आईपीएस लॉबी को मिला योगी का समर्थन !

Chief Minister Yogi Adityanath, Ips, Ias, Uttar Pradesh
  • सीएम दफ्तर में तैनात होंगे आईपीएस!
  • तैयार किया जा रहा है प्रस्ताव, जल्द होगी नियुक्ति
  • सबसे पहले मायावती ने बनाया था आईपीएस सचिव

एम. एम. सरोज

लखनऊ। आईएएस और आईपीएस के बीच अधिकारों की तनातनी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अब अपने दफ्तर में एक आईपीएस को बतौर सचिव तैनात करने जा रहे हैं। जल्द ही इस पद पर आईपीएस की तैनाती कर दी जाएगी। यह आईपीएस सीधे मुख्यमंत्री को रिपोर्ट करेंगे। सीएम दफ्तर में अभी केवल एक सचिव आईएएस के तौर पर मृत्युंजय नारायण तैनात हैं।

कानून-व्यवस्था पर रखेंगे नजर: सूत्रों का कहना है कि सीएम योगी कानून-व्यवस्था से जुड़े मामलों को लेकर काफी सख्त हैं। इसलिए वे अब अपने दफ्तर में इस आईपीएस अफसर को सभी जिलों की कानून-व्यवस्था से जुड़े मामलों को देखने का जिम्मा सौंपेंगे। वह गृह विभाग की मदद से कानून व्यवस्था को दुरुस्त करने के साथ सभी जिलों के एसपी और एसएसपी से सीधे समन्वय स्थापित करेंगे। किसी भी आपात स्थिति में वह सीएम का संदेश सीधे जिलों तक पहुंचा भी सकेंगे। इसके साथ ही वह पुलिस की भर्ती और उनके सुधार से जुड़े मामलों को भी देखेंगे।

सचिवालय में तैनाती के लिए कई आईपीएस रेस में हैं। इनमें डीजी (इंटेलीजेंस) भावेश कुमार सिंह, एडीजी (सुरक्षा) विजय कुमार भी शामिल हैं। कहा जा रहा है कि केंद्र में तैनात किसी अफसर को भी बतौर सचिव सीएम दफ्तर में लाया जा सकता है। इन अफसरों को लेकर मुख्यमंत्री सचिवालय प्रस्ताव तैयार कर रहा है।

आईपीएस को अपने दफ्तर में तैनात करने की परम्परा की मायावती ने शुरू की थी। उन्होंने अपने सचिवालय में बतौर सचिव आईपीएस विजय कुमार सिंह को तैनात किया था। गृह विभाग में सचिव और विशेष सचिव के तौर पर आईपीएस की तैनाती की। उन्होंने आईपीएस विजय कुमार गुप्ता को गृह विभाग में सचिव बनाया। अखिलेश यादव ने भी यही किया। उनके कार्यकाल में गृह विभाग में सचिव पद पर आईपीएस की तैनाती होती रही। कई आईपीस सचिव पद पर गृह विभाग में तैनात रहे, जिनमें आईपीएस जावेद अख्तर, जावीद अहमद, जावेद अंसारी, आनंद कुमार, कमल सक्सेना शामिल हैं। अब भी आईपीएस भगवान स्वरूप गृह विभाग में सचिव पद पर तैनात हैं।

rgautamlko@gmail.com

Review overview
NO COMMENTS

POST A COMMENT