23 March, 2019

निष्पक्ष दिव्य संदेश और तिजारत अखबार की एनसीआर में दस्तक

शिशुपाल सिंह

नोएडा। खोजी और विशेष खबरों के लिए बड़ा हस्ताक्षर बन चुका लखनऊ से प्रकाशित साप्ताहिक समाचार पत्र निष्पक्ष दिव्य संदेश और हिन्दी दैनिक तिजारत अखबार राष्टï्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में दस्तक दी है। देश के सबसे चर्चित पत्रकार और भड़ास फॉर मीडिया के सीईओ यशवंत सिंह ने बीते रविवार को एक भव्य कार्यक्रम में इन दोनों अखबारों के कार्यालय का उद्घाटन किया। इस मौके पर नामचीन गणमान्य हस्तियां और पत्रकार उपस्थिति थे।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2011 से निष्पक्ष दिव्य संदेश साप्ताहिक अखबार की कमान सम्पादक श्रीमती रेखा गौतम के हाथ में आई थी। इसके बाद इस अखबार ने अपनी खोजी और विशेष के साथ आम जनता से जुड़ी खबरों को वरीयता देने से कुछ ही समय में जहां पाठकों में खास लोकप्रिय हो गया वहीं शासन और सत्ता में भी एक अहम स्थान बनाने में कामयाब रहा। वर्ष 2014 में हिन्दी दैनिक तिजारत का संचालन की जिम्मेदार भी शुरू हुई। यह अखबार भी बीते पांच सालों में यूपी के हर जिले में दस्तक दे चुका है। अब यह दोनों अखबार राष्टï्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) की पाठकों के लिए उपलब्ध होगा।

चर्चित पत्रकार और भड़ास फॉर मीडिया के सीईओ यशवंत सिंह ने अपने सम्बोधन में अखबार की खबरों की भूरि-भूरि प्रशंसा की। उन्होंने चिंता जताते हुए कहा कि पूंजीवादी व्यवस्था ने मीडिया को अपने काबू में कर लिया है। इसके जरिए वे अपना एजेंडा चला रहे हैं, जिनका जनता से कोई सरोकार नहीं है। उन्होंने  कहा कि लघु और माध्यम अखबार ही स्वस्थ्य पत्रकारिता के लिए काम कर रहे हैं। इन्हीं अखबारों की वजह से बड़े-बड़े घपले और घोटाले खुल रहे हैं। आज आवश्यकता है ऐसे अखबारों को समर्थन और सहयोग की। निष्पक्ष दिव्य संदेश और तिजारत अखबार के एनसीआर में आने से निश्चित ही पाठकों को निष्पक्ष पत्रकारिता के आयामों से रूबरू होंगे।

डायमंड पब्लिेकेशंस के चेयरमैन नरेन्द्र कुमार वर्मा ने चिंता जताते हुए कहा कि अब चैनलों और बड़े अखबारों में जन सरोकार से नाता टूट गया है। अधकचरे ज्ञान और आधी-अधूरी सूचनाओं के जरिए पाठकों को दिग्भ्रमित किया जा रहा है। उनका मानना है कि आज भी लघु और माध्यम अखबार समाज के प्रति अपनी नैतिक जिम्मेदारी निभा रहे हैं। नई-नई तकनीक और सोशल मीडिया के आने से ऐसे अब सच छिपता नहीं है। इसलिए पाठकों की जिम्मेदारी बढ़ गई है। फेक न्यूज के प्रति सावधान रहे। मोबाइल और इंटरनेट की दुनिया के बजाए युवा किताबों का अध्ययन करें, जिससे ज्ञान बढ़ेगा और फेक न्यूज से बचेंगे।

वरिष्ठï पत्रकार अमरेन्द्र राय ने कहा कि चैनलों और कुछ बड़े अखबारों के क्रियाकलापों से मीडिया की विश्वसनीयता कम हुई है। लेकिन लघु और माध्यम अखबारों ने आज भी स्वस्थ्य पत्रकारिता के लिए संघर्ष  और बलिदान दे रहा है। निष्पक्ष दिव्य संदेश और तिजारत अखबार निश्चित ही स्वास्थ्य पत्रकारिता में अहम योगदान देंगे।

निष्पक्ष दिव्य संदेश और तिजारत अखबार के अवैतनिक सलाहकार पंकज के. सिंह ने कहा कि मीडिया का रोल समाज के लिए बड़ा रचनात्मक होता है। लेकिन अब इसमें क्षरण आ गया है। मीडिया पर पूंजीवादी व्यवस्था हावी है। इस वजह से चैनलों और अखबारों में सिर्फ और सिर्फ बाजारवाद का प्रोपोगंडा फैलाया जा रहा है। न तो चैनलों और आम जनता की मूलभूत समस्याओं के प्रति कोई विचार-विमर्श चलता है और न ही अखबारों में ऐसी खबरों को वरीयता दी जाती है। उन्होंने कहा कि निष्पक्ष दिव्य संदेश और तिजारत अखबार  जनहित के मुद्दों को वरीयता देंगे। निष्पक्ष दिव्य संदेश और तिजारत अखबार की सम्पादिका श्रीमती रेखा गौतम ने कहा कि ये अखबार नहीं, मिशन है। इनके जरिए समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति की आवाज बनने का प्रयास किया जाता है।   उनको न्याय दिलाने के लिए हर संभव प्रयास किए जाते हैं। एनसीआर में कार्यालय खुलने की शुरूआत हो चुकी है। जल्द ही पूरे प्रदेश में अखबार का विस्तार किया जाएगा। तिजारत अखबर के विशेष संवाददाता ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी ने कहा कि अब निष्पक्ष पत्रकारिता करना आसान नहीं है। लघु और माध्यम अखबारों पर काफी संकट का दौर चल रहा है। सीमित संसाधनों और आर्थिक संकटों के बावजूद निष्पक्ष पत्रकारिता में लघु और माध्यम अखबार निष्पक्ष पत्रकारिता में अहम भूमिका निभा रहे हैं।

निष्पक्ष दिव्य संदेश अखबार के विशेष संवाददाता राजेन्द्र के. गौतम ने कहा कि बड़े हर्ष की बात है कि अखबार का ब्यूरो कार्यालय नोयडा में खुल गया है। अब एनसीआर के पाठकों की आवाज बनने के प्रयास किए जाएंगे।

 

rgautamlko@gmail.com

Review overview
NO COMMENTS

Sorry, the comment form is closed at this time.