20 November, 2017

नसीमुद्दीन सिद्दीकी, बृजेश सिंह और अम्बिका चौधरी की वि.प. सदस्यता हो सकती है समाप्त

लखनऊ।यूपी विधान परिषद के तीन सदस्यों की सदस्यता शीघ्र समाप्त हो सकती है। इन तीनों सदस्यों के सदन के अयोग्य घोषित किये जाने की कवायद जारी है। तीन विप सदस्यों के खिलाफ सभापति के यहां सदस्यता समाप्त करने की दायर याचिका पर शीघ्र निर्णय लिये जाने की संभावना है। विधान परिषद में बसपा ने नसीमुउद्दीन सिद्दीकी एवं बृजेश सिंह और सपा ने अंबिका चौधरी के खिलाफ उनकी सदस्यता समाप्त किये जाने की याचिका दाखिल की है।

 

 

इसमें से बीते दिनों विधान परिषद के पूर्व सदस्य एवं पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी को पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण निकाल दिया था। इसी तरह बसपा कोटे से विधान परिषद पहुंचे बृजेश सिंह के खिलाफ भी शिकायतें हैं। इसके अलावा सपा ने अपने पूर्व मंत्री एवं वरिष्ठ विधान परिषद सदस्य अम्बिका चौधरी के पार्टी छोड़कर बसपा में जाने और फिर 2017 में विधानसभा चुनाव बलिया से लड़ने के कारण उनकी सदस्यता समाप्त करने की याचिका दायर की है। बताया जा रहा है कि विधान परिषद के सभापति रमेश यादव इस याचिका के निपटारे की प्रक्रिया में जुटे हुए हैं। वह इस मामले में कानूनी सलाह लेने के बाद शीघ्र ही इन तीन सदस्यों की सदस्यता पर अपना फैसला सुनायेंगे। जिससे इन सदस्यों की सदस्यता समाप्त होने की पूरी संभावना है।वर्तमान में सरकार में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत पांच मंत्री प्रदेश के किसी भी सदन के सदस्य नही हैं।

 

 

मंत्रिमंडल में बने रहने के लिये पांचों मंत्रियों को 19 सितम्बर से पहले किसी न किसी सदन का सदस्य होना जरूरी है। जो सदस्य विप या विस किसी के भी सदस्य नहीं हैं, उनमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य प्रमुख हैं। योगी आदित्यनाथ एवं केशव मौर्या जहां विधान सभा चुनाव लड़कर सदन में आने की कवायद चल रही है, वहीं भाजपा के तीन सदस्यों उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा, राज्य परिवहन मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह और प्रदेश में अल्पसंख्यक राज्य मंत्री मोहसिन राजा को विधान परिषद में लाने में जुटी है।

rgautamlko@gmail.com

Review overview
NO COMMENTS

POST A COMMENT