18 April, 2019

लोस में 2019-20 की लेखानुदान मांगें पारित

  • विपक्ष का बहिर्गमन

नई दिल्ली। लोकसभा ने आज वित्त वर्ष 2019- 20 के पहले चार महीनों के लिए लेखानुदान मांगों और उससे संबंधित विनियोग विधेयक 2019 को ध्वनिमत से पारित कर दिया। सदन ने इसके साथ ही भारत की संचित निधि से 2018-19 के अतिरिक्त खर्च की पूर्ति के लिए वर्ष की अनुपूरक अनुदान मांगों और तत्संबंधी विनियोग विधेयक को भी मंजूरी दे दी। असंतुष्ट कांग्रेस, राकांपा और वामदलों ने सदन से वाकआउट किया। वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने अंतरिम बजट पर लोकसभा में हुई र्चचा का जवाब देते हुए दावा किया कि कांग्रेस नीत पिछली सरकारों ने अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ बनाने के लिए कोई ठोस काम नहीं किया।

गोयल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में इस सरकार ने किसानों, गरीबों और मध्य वर्ग के लिए कई योजनाएं शुरू की और उन्हें अमल में लाया गया है। उन्होंने दावा किया कि जुलाई महीने में अगला बजट भी प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में ही पेश किया जाएगा।गोयल ने विपक्ष पर कटाक्ष करते हुए कहा कि बजट र्चचा के दौरान उसने कोई भी बुनियादी मुद्दा नहीं उठाया। उन्होंने कहा कि विपक्ष देश के गरीबों, महिलाओं और कमजोर वर्ग का विकास नहीं चाहता है। यही वजह है कि वह मोदी सरकार की गरीब और किसान हितैषी नीतियों का विरोध करता रहता है। वित्त मंत्री के जवाब के दौरान पूरे समय तेदेपा के सदस्य आसन के पास आकर आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने की मांग करते रहे। वहीं कांग्रेस के सदस्य गोयल के जवाब पर असंतोष जताते हुए आसन के समीप आ गए।

rgautamlko@gmail.com

Review overview
NO COMMENTS

Sorry, the comment form is closed at this time.