22 May, 2018

डकैती की वारदात से गांव के लोग अभी भी दहशत में

  • राजधानी की हाईटेक पुलिस अपराधियों को पकडऩे में विफल

एम.एम.सरोज

लखनऊ। प्रदेश की राजधानी लखनऊ में अपराधियों के हौसलें बुलंद है अपराधी ताबतोड़ वारदातों को अंजाम दे रहे है। नवाबो के शहर के नाम से महशूर लखनऊ अब अपराधियों का शहर कहां जाएं तो कोई गलत नहीं होगा जिस तरह अपराधी बेखौफ होकर लूट, हत्या, दुराचार, डकैती जैसी शंगीन वारदातो को अंजाम दे रहे है। उससे यही अंदाजा लगाया जा सकता है कि राजधानी के तेज तर्रार एसएपी दीपक कुमार अपराधो पर लगाम लगाने में अभी तक पूरी तरह विफल रहे है। और उन्हीं की राह पर राजधानी के थानेदार भी है उन्हें सिर्फ वाहन चेंकिग, टप्पेबाज, शराबी, चोर को पकडऩे में अपना सारा समय दे रहे है। जिस तरह से तीन-चार दिन में राजधानी में ताबतोड़ वारदात पर वारदात हुई है।

लगता नहीं कि अब एसएसपी के बस में राजधानी की कानून व्यवस्था है। चार दिन पहले चिनहट में डकैतो ने हमला बोला, उसके बाद दो दिन बाद नाका इलाके में थाने से चंद कदमों की दूरी पर भीड़-भाड़ इलाके में एक व्यापारी की पत्नी बीना मल्होत्रा नामक महिला की बदमाशों ने निर्मम हत्या कर दी थी अभी इन घटनाओं पर पुलिस कुछ कर पाती कि रविवार की रात को काकोरी में हत्या और डकैती से राजधानी एक बार फि र थर्रा उठी। दर्जन भर से अधिक डकैतों ने घंटों गांव वालों को बंधक बनाकर तांडव किया और बदमाश ताबड़तोड़ फ ायरिंग करते हुए कई घरों में वारदात को अंजाम दिया। इस दौरान ग्राम प्रधान हरिशंकर के पुत्र अभिषेक उर्फ कोमल यादव ने विरोध किया तो उसे गोली मार कर हत्या कर दी। इतना ही नहीं जिसने भी टोंकाटांकी की डकैतों ने उसे ही गोली का निशाना बनाया। बदमाशों ने लूट-पाट करने के बाद घरवालों को कमरे में बंद कर भागने लगे तो यूपी 100 की इनोवा पहुंची। बदमाश इसी लाइट के सहारे वारदात को अंजाम देकर फ रार हो गए। देर से पहुंची पुलिस ने मामले के खुलासे का वही पुराना राग अलापा। मौके पर एडीजी अभय कुमार प्रसाद, आईजी जोन जय नारायण सिंह एसएपी दीपक कुमार और एएसपी ग्रामीण डॉ. सतीश कुमार पहुंचे और घटना का जायजा लिया। उधर बड़े अधिकारियों ने अपनी गर्दन बचाने के लिए एसओ काकोरी यशकांत को सस्पेंड कर दिया और एक नया एसो को तैनात कर दिया। थाना क्षेत्र के कटौली और बनियाखेड़ा टोला गांव में रात दो बजे दर्जन से अधिक डकैत जा धमके थे। वहीं कटौली और बनियाखेड़ा टोला गांव के लोग दहशत में जी रहे है। फिलहाल पुलिस की टीमें अपराधियों को पकडऩे में लगी है लेकिन देखना है कि आखिर पुलिस कब तक इन वारदातों के अपराधियों को पकडऩे में कामयाब होगी।

grish1985@gmail.com

Review overview
NO COMMENTS

POST A COMMENT