21 November, 2018

यूपी में आलू के रिकार्ड उत्पादन होने से बढ़ेगी किसानों की परेशानी

लखनऊ। आलू किसानों की मुसीबत कम होती नहीं दिख रही है क्योंकि मौसम अनुकूल होने के कारण इस सीजन में भी रिकार्ड उत्पादन होने के आसार हैं। पिछले दो वर्षो से आलू के दाम में मंदी के संकट से जूझते किसानों को राहत देने के प्रभावी कदम नहीं उठाए गए तो इस बार भी मुश्किलें बनी रहेंगी।

लखनऊ। आलू किसानों की मुसीबत कम होती नहीं दिख रही है क्योंकि मौसम अनुकूल होने के कारण इस सीजन में भी रिकार्ड उत्पादन होने के आसार हैं। पिछले दो वर्षो से आलू के दाम में मंदी के संकट से जूझते किसानों को राहत देने के प्रभावी कदम नहीं उठाए गए तो इस बार भी मुश्किलें बनी रहेंगी।

उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग अनुमान के अनुसार गत वर्ष की तुलना में इस बार लगभग एक हजार हेक्टेयर से अधिक भूमि में आलू की फसल की बोआई हुई है। इस हिसाब से करीब 6.15 लाख हेक्टयर भूमि में आलू की बोआई होने की प्रारंभिक जानकारी है। इस आंकड़े में मामूली अंतर हो सकता है लेकिन, अनुकूल मौसम और बीमारियां व कीट का प्रकोप कम होने के कारण बंपर फसल हुई है। आगरा जिले के प्रमुख आलू उत्पादक किसान सुनील सिकरवार का कहना है कि पैदावार में गत वर्ष की तुलना में दो-तीन प्रतिशत तक बढ़ोतरी संभव है। गत वर्ष 155 लाख मीटिक टन आलू की पैदावार हुई थी, जिसमें से 124 लाख मीटिक टन आलू का शीतगृहों में भंडारण किया गया था, जो किसानों की बर्बादी का सबब बना।

निर्यात कम होने से आलू संकट बना

आलू कारोबारी मनोज कुमार का कहना है कि गत वर्षो में निर्यात में गिरावट की स्थिति बने रहने से ही हालात बिगड़े। पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान से मांग कम होने के अलावा अन्य राज्यों गुजरात, असम व छत्तीसगढ़ आदि राज्यों में आलू की खपत कम हुई। 1आलू विशेषज्ञ सदानंद सिंह का मानना है कि अन्य प्रदेशों में आलू बोआई क्षेत्रफल बढ़ा है। उत्तर प्रदेश में भी अधिकतर जिलों में आलू बोया जा रहा है। इसके अलावा उन्नत बीजों का प्रयोग बढ़ने और अनुकूल मौसम रहने व बीमारियों का प्रकोप न्यूनतम होने से भी पैदावार बढ़ी। मांग से ज्यादा आलू पैदा होने से मंदी संकट गहराता है।

भाजपा किसान मोर्चा ने आलू का समर्थन मूल्य बढ़ाने की मांग की है। मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष राजा वर्मा के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल रविवार को उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य से मिला और किसानों के हित में सरकार के प्रयासों की सराहना की लेकिन, कई मांगें भी रखीं। केशव प्रसाद मौर्य की अध्यक्षता में आलू किसानों को राहत देने के लिए एक समिति बनी है। सोमवार को इस समिति की बैठक होनी है। भाजपा किसान मोर्चा ने केशव मौर्य से क्रय का सरकारी लक्ष्य बढ़ाने, भंडारण की उचित व्यवस्था, आलू बाहर भेजने पर सब्सिडी बढ़ाने आदि की मांग की है। कोल्ड स्टोरेज के भाड़े में छूट, कोल्ड स्टोरेज की बिजली किसानों को दी जाने वाली दरों पर देने और आलू की उचित मार्केटिंग के संबंध में किसानों को जागरूक करने के लिए कार्यक्रम चलाने की भी मांग की है।

rgautamlko@gmail.com

Review overview
NO COMMENTS

Sorry, the comment form is closed at this time.