20 July, 2018

अनुदेशकों पर हुए लाठी चार्ज की रालोद ने की निंदा

लखनऊ। राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) ने विधान भवन पर अपनी मांगों को लेकर शान्तिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे अनुदेशकों पर हुए बर्बर लाठी चार्ज की मंगलवार को निंदा की। प्रदेश प्रवक्ता सुरेन्द्रनाथ त्रिवेदी ने कहा कि योगी सरकार के इशारे पर अनुदेशकों पर बर्बरता पूर्वक लाठी चार्ज किया गया है, जिसकी रालोद घोर निंदा करता है। 

 

उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा विगत वर्ष मेें ही घोषणा की गयी थी कि अनुदेशकों को मानदेय 17000 रूपया प्रतिमाह दिया जायेगा जिसे योगी सरकार ने अभी तक लागू नहीं किया है। साथ ही उनको मिलने वाला मानदेय 8,470 रूपया भी समयबद्ध तरीके से नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हजारों अनुदेशकों के साथ प्रदेश सरकार घोर अन्याय कर रही है। इसलिए अनुदेशकों के परिवार का भरण —पोषण सोचनीय स्थिति तक पहुंच गया है। 

 

त्रिवेदी ने कहा कि योगी सरकार ने ही वादा किया था कि वर्ष 2019 तक समस्त अनुदेशकों का समायोजन कर लिया जायेगा। समायोजन की प्रक्रिया प्रारम्भ करना तो दूर की बात है, केन्द्र सरकार द्वारा घोषित 17000 मानदेय भी लागू करने में असफल रही है।

 

उन्होंने कहा कि जब घोषित मानदेय लागू करने तथा समायोजन का वादा निभाने जैसी जायज मांगों को लेकर कला, कृषि एवं शारीरिक शिक्षा के हजारों अनुदेशकों ने शान्तिपूर्वक प्रदर्शन किया तो पुलिस ने सरकार के इशारे उन पर बर्बरता पूर्वक लाठियां चलाई। इस बर्बता पूर्ण कृत्य से सैकड़ों लोगों को चोटे आयी हैं। 

 

प्रवक्ता ने कहा कि योगी सरकार एक ओर बेरोजगारों को रोजगार एवं नौकरी देने की थोथी घोषणाएं करती है। दूसरी तरफ पूरा करने में असमर्थ रहने है पर विभागों में कार्यरत अनुदेशकों को घोषित मानदेय देने में भी आनाकानी करती है। इसके बाद उनकी आवाज बंद करने के लिए लाठीचार्ज करवाती है। उन्होंने कहा कि रालोद किसी भी कीमत पर अनुदेशकों के साथ अन्याय नहीं होने देगा और उनकी मांगों के लिए संघर्ष करेगी। 

rgautamlko@gmail.com

Review overview
NO COMMENTS

POST A COMMENT