18 April, 2019

यूपी को निखारे नौकरशाह : योगी

एनडीएस ब्यूरो

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सरकार की योजनाओं को समाज के अन्तिम पायदान पर खड़े व्यक्ति तक पहुंचाने के लिए प्रशासनिक अधिकारियों की एक मजबूत कड़ी की जरूरत होती है। इस दृष्टि से यूपी में देश का सबसे बड़ा प्रशासनिक अधिकारियों का नेटवर्क है। उन्होंने कहा कि वरिष्ठ अधिकारी अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन पूरी ईमानदारी से करें। मुख्यमंत्री शुक्रवार को यहां विधान सभा स्थित तिलक हॉल में आयोजित वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों के सम्मेलन को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि संवाद लोकतंत्र की सबसे बड़ी ताकत है। संवाद स्थापित न होने से भ्रम की स्थिति के चलते काफी समस्याएं होती हैं। यह सच है कि नियमित संवाद से अधिकारियों को अपने जनपद व विभाग की जमीनी हकीकत से रूबरू होने का अवसर भी मिलता है। उन्होंने कहा कि जनपदों की समस्याओं का समाधान जनपद में ही हो जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वरिष्ठ अधिकारी अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन पूर्ण ईमानदारी से करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिकािरयों को तय करना होगा कि किसके साथ संवेदना बरती जाए व किसके साथ कड़ाई। क्योंकि किसी गरीब के जीवन में खुशहाली लाने के लिए आपकी बड़ी भूमिका हो सकती है। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार ने उत्तर प्रदेश के परिदृश्य को बदलने का काम किया है, जिसका परिणाम यह रहा है कि राज्य में बड़े पैमाने पर निवेश आ रहा है।

वाराणसी में सम्पन्न 15वां प्रवासी भारतीय दिवस प्रशासनिक अधिकारियों की कुशलता का प्रतीक बना। मण्डलायुक्त प्रयागराज की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि प्रयागराज कुम्भ 2019 को दिव्य और भव्य बनाने में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कार्ययोजना बनाकर उसे क्रियान्वित करें तभी सकारात्मक परिणाम आते हैं। शासन द्वारा संचालित योजनाओं का नियमित अनुश्रवण करें जिससे पात्र व्यक्ति को योजनाओं का लाभ दिलाया जाना सुनिश्चित हो सके। जिलाधिकारी अपने जनपदों से सम्बन्धित समस्याओं का प्रभावी समाधान सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि शासन की नीतियों की जानकारी जनता तक पहुंचाना तथा इसका लाभ सुनिश्चित कराना वरिष्ठ अधिकारियों की जिम्मेदारी है। इसका क्रियान्वयन प्रभावी ढंग से किया जाए। उन्होंने अपेक्षा की कि वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी कनिष्ठ अधिकारियों को अपने अनुभवों से लाभान्वित करेंगे और उनका मार्गदर्शन भी करेंगे। उन्होंने कहा कि भारतीय प्रशासनिक सेवा की गरिमा को बनाये रखने का दायित्व इस सेवा के अधिकारियों का ही है। शासन और जनता उनसे बहुत उम्मीद रखती है। उन्होंने कहा कि वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों पर प्रदेश को विकास के पथ पर आगे ले जाने की जिम्मेदारी है। उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों से उत्तर प्रदेश की छवि और बेहतर बनाने के लिए सक्रिय प्रयास करने की भी अपेक्षा की।

उन्होंने कहा कि जब वरिष्ठ अधिकारी ऐसा करेंगे तो उनके अधीनस्थ कर्मचारी भी इसमें अपना योगदान देंगे। उन्होंने सुझाव दिया कि आईएएस वीक के दौरान जनता को बेहतर सेवाएं उपलब्ध कराने के तरीकों पर मंथन किया जाए। उन्होंने कहा कि प्रशासन के मामले में वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों की सेवाएं सर्वोच्च हैं। ऐसे में उन्हें अपनी कार्य पण्राली का विशेष ध्यान रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि वरिष्ठ अधिकारी जनता के प्रति अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करते हुए योजनाओं को धरातल पर लागू करें। कार्यक्रम के दौरान जिलाधिकारी फिरोजाबाद एवं जिलाधिकारी इटावा द्वारा गोवंश के संरक्षण एवं गो आश्रय स्थल, जिलाधिकारी गाजियाबाद द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में सालिड वेस्ट मैनेजमेन्ट सिस्टम तथा जिलाधिकारी सहारनपुर द्वारा प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना आयुष्मान भारत योजना पर प्रस्तुतिकरण भी दिए गये। इस अवसर पर मुख्य सचिव डा. अनूप चन्द्र पाण्डेय, राजस्व परिषद के अध्यक्ष प्रवीर कुमार, कृषि उत्पादन आयुक्त डा. प्रभात कुमार, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एसपी गोयल, प्रमुख सचिव गृह अरविन्द कुमार सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। 

 

rgautamlko@gmail.com

Review overview
NO COMMENTS

Sorry, the comment form is closed at this time.