11 December, 2018

विनेश ने रचा भारत के लिए स्वर्णिम इतिहास

women's wrestler Vineesh Phogat, golden history for India,18th Asian Games wrestling competition,Olympic medal winner Siddhi Malik, Pooja Dhanda
  • विनेश एशियन गेम्स में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बनीं
  • साक्षी मलिक, पूजा ढांडा और सुमित कांस्य से चूके
  • हरियाणा सरकार विनेश को देगी 3 करोड़ का इनाम

जकार्ता। भारतीय महिला पहलवान विनेश फोगाट ने जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए 18वें एशियन गेम्स की कुश्ती प्रतियोगिता के 50 किग्रावर्ग में सोमवार को स्वर्ण पदक जीतकर नया इतिहास रच दिया। लेकिन ओलंपिक पदक विजेता साक्षी मलिक (62), पूजा ढांडा (57) और पुरु ष फ्री स्टाइल पहलवान सुमित (125) को कांस्य पदक मुकाबलों में हार का सामना रहा। विनेश ने इस तरह भारत को इन खेलों में दूसरा स्वर्ण और कुश्ती का भी दूसरा स्वर्ण दिलाया। विनेश इसके साथ ही एशियन गेम्स में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बन गई। विनेश ने 50 किग्राके फाइनल में जापान की इरी यूकी को 6-2 से पराजित किया।

विनेश ने फाइनल में जापानी पहलवान के खिलाफ आक्रमण और रक्षण का बेहतरीन नमूना पेश किया। उन्होंने पहले ही राउंड में 4-0 की बढ़त बना ली। उन्होंने यूकी को अपने पैरों से पूरी तरह दूर रखा ताकि वह कोई दांव न लगा सके। दूसरे राउंड में विनेश को हालांकि चेतावनी के बाद एक अंक गंवाना पड़ा लेकिन उन्होंने अपना दबदबा बनाए रखते हुए अंतिम सेकेंडें में दो अंक लेकर 6-2 पर मुकाबला समाप्त कर दिया। उन्होंने ओप¨नग राउंड में चीन की सुन यनान को 8-2 से पराजित करते हुए क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया।

उन्होंने इसके बाद कोरिया की किम ¨हगजू को 11-0 से तकनीकी श्रेष्ठता के आधार पर हराकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया।क्वार्टर फाइनल मैच में रोहतक की पहलवान ने कमाल का प्रदर्शन किया और पहले राउंड में छह अंक तथा दूसरे राउंड में पांच अंक जुटाए। उन्होंने चार मिनट 37 सेकेंड में ही मैच समाप्त कर दिया। इससे पहले चीन की यनान के खिलाफ विनेश का मैच काफी रोमांचक और यादगार रहा। रविवार को 24 साल की होने जा रही विनेश ने 2014 के इंचियोन खेलों में 48 किग्रामें कांस्य पदक जीता था। विनेश ने सेमीफाइनल में उज्बेकिस्तान की दोलेतबाइक यक्शीमुरातोवा को एकतरफा अंदाज में 10-0 से पीट दिया।

भारतीय पहलवान ने पहले ही राउंड में लगातार 10 अंक लेते हुए मात्र एक मिनट 15 सेकेंड में मुकाबले को निपटाते हुए स्वर्ण पदक दौर में जगह बनाने के बाद खिताब जीतकर इतिहास रच दिया। इस बीच साक्षी को 62 किग्रावर्ग के सेमीफाइनल में किर्गिस्तान की एसुलू तिनिबेकोवा से नजदीकी मुकाबले में 7-9 से हार का सामना करना पड़ा। लेकिन तिनिबेकोवा के फाइनल में पहुंचने के कारण साक्षी को अब कांस्य पदक के लिए खेलने का मौका मिला लेकिन उन्हें उत्तर कोरिया की सिम जोंग रिम से 2-12 से हार का सामना करना पड़ा। 

rgautamlko@gmail.com

Review overview
NO COMMENTS

Sorry, the comment form is closed at this time.