18 July, 2018

योगी और केशव ने पुण्यतिथि पर स्वामी दयानन्द सरस्वती को दी श्रद्धांजलि

Yogi adityanath, Keshav maurya, Swami Dayanand Saraswati, divyasandesh

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने स्वामी दयानन्द सरस्वती की पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि दी है। मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘आधुनिक भारत के महान चिन्तक, समाज-सुधारक, देशभक्त, एक सन्यासी, महर्षि स्वामी दयानन्द सरस्वती जी की पुण्यतिथि पर विनम्र श्रद्धांजलि।’’ वहीं उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने ट्वीट किया, ‘‘आर्य समाज के संस्थापक एवं समाज सुधारक स्वामी दयानन्द सरस्वती जी की पुण्यतिथि पर सादर श्रृद्धांजलि।’’

स्वामी दयानन्द सरस्वती का जन्म 12 फरवरी, 1824 को गुजरात में हुआ था। उन्होंने देश में व्याप्त कुरीतियों और अन्धविश्वासों का विरोध करते हुए समाज को नई दिशा दी और वैदिक ज्ञान के महत्व को समझाया। उन्होंने 1875 में गुड़ी पड़वा के दिन मुम्बई में आर्य समाज की स्थापना की और 1857 की क्रान्ति में अपना अमूल्य योगदान दिया। इसके साथ ही उन्होंने सबसे पहले 1876 में ’स्वराज्य’ का नारा दिया जिसे बाद में लोकमान्य तिलक ने आगे बढ़ाया।
स्वामी दयानन्द के विचारों से प्रभावित महापुरुषों में मदनलाल ढींगरा, राम प्रसाद ’बिस्मिल’, लाला लाजपत राय आदि रहे। स्वामी दयानन्द के प्रमुख अनुयायियों में लाला हंसराज ने 1886 में लाहौर में ’दयानन्द एंग्लो वैदिक कॉलेज’ की स्थापना की तथा स्वामी श्रद्धानन्द ने 1901 में हरिद्वार के निकट कांगड़ी में गुरुकुल की स्थापना की। 

महर्षि दयानन्द सरस्वती ने बाल विवाह, सती प्रथा और वर्ण भेद का जहां विरोध किया वहीं विधवा पुनर्विवाह के लिए अपना मत दिया और लोगों को इस ओर जागरूक किया। इसके अलावा उन्होंने नारी शिक्षा एवं समानता को बढ़ावा देने का काम किया। उनका निधन 30 अक्टूबर 1883 को हुआ। इस तरह अपने 59 वर्ष के जीवन में महर्षि दयानन्द सरस्वती ने राष्ट्र में व्याप्त बुराईयों के खिलाफ लोगों को जगाया और अपने वैदिक ज्ञान का प्रकाश देश में फैलाया। 

rgautamlko@gmail.com

Review overview
NO COMMENTS

POST A COMMENT